मुख्‍य समाचार

1 रायपुर। बच्चों के विकास मे प्रमुख भूमिका निभा रहा सजग कार्यक्रम : ऑडियो क्लिप के माध्यम से सुनाए जा रहे प्रेरक संदेश,रायपुर। मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता ’लोकवाणी’ की 12 वीं कड़ी का प्रसारण 8 नवम्बर को : लोकवाणी ’बालक-बालिकाओं की पढ़ाई, खेलकूद, भविष्य’ विषय पर केन्द्रित होगी,राजनांदगांव। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया 4 नवम्बर को राजनांदगांव जिले के दौरे पर रहेंगे मिशन अमृत योजना के तहत 8.5 करोड़ के विकास कार्यों का करेंगे लोकार्पण ,राजनांदगांव : उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. सोनकर ने किया गोधन न्याय योजना के कार्यों का निरीक्षण : योजना की सफलता का मूल मंत्र गौठानों का सफल संचालन, राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित राज्योत्सव में मुख्यमंत्री ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 1 लाख 65 हजार किसानों के खाते में 178 करोड़ रूपए की राशि अंतरित की

सोमवार, 2 नवंबर 2020

उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. सोनकर ने किया गोधन न्याय योजना के कार्यों का निरीक्षण : योजना की सफलता का मूल मंत्र गौठानों का सफल संचालन

राजनांदगांवशासन की महत्वाकांक्षी एवं ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने वाली गोधन न्याय योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए राज्य एवं जिला स्तरीय अधिकारियों द्वारा लगातार निरीक्षण किया जा रहा है। जिसके अंतर्गत उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. जगदीश सोनकर द्वारा आज राजनांदगांव के विभिन्न गौठानों का निरीक्षण किया गया। उन्होंने निरीक्षण के दौरान गोधन न्याय योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए नियमित मॉनिटरिंग, गौठानों में आने वाले गोबर की मात्रा एवं गुणवत्ता के साथ गोबर के रखरखाव एवं खाद निर्माण प्रक्रिया के लिए प्रशिक्षण को लेकर स्व सहायता समूह की महिलाओं से चर्चा की।

उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. जगदीश सोनकर ने निरीक्षण के दौरान जनपद पंचायत राजनांदगांव के अंतर्गत ग्राम पंचायत सांकरा, मोखला, सुरगी, रेंगाकटेरा एवं नगर निगम क्षेत्र के बजरंगपुर नवागांव के गौठानों का निरीक्षण किया गया। उन्होंने गौठान में स्व-सहायता समूह द्वारा किए जा रहे नियमित गोबर की मात्रा की पंजी संधारण एवं प्रतिदिन वर्मी कंपोस्ट टैंक में डाले जाने वाले गोबर की मात्रा के बारे में जानकारी ली। उन्होंने ग्राम पंचायत सचिव को नियमित तथा तत्काल ऑनलाइन एंट्री करने के निर्देश दिए। डॉ. सोनकर ने गौठान में उपस्थित ग्रामीणों एवं स्व-सहायता समूह की महिलाओं से योजना के संबंध में चर्चा की। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों द्वारा गोबर विक्रय के 15 दिवस में 2 रूपए प्रति किलो की दर से प्राप्त होने वाली राशि से ग्रामीण अर्थव्यवस्था को लाभ मिल रहा है। साथ ही गोबर से निर्मित होने वाली वर्मी कंपोस्ट खाद को खेती के लिए सर्वोपयुक्त है।
उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. सोनकर ने गौठान के निरीक्षण के दौरान महिला स्वसहायता समूह द्वारा उच्च गुणवत्ता के उत्पादित वर्मी कंपोस्ट एवं वर्मी वाश के उत्पादन की सराहना की। साथ ही अन्य रोजगार मूलक कार्यों की भी प्रशंसा की। उन्होंने गांव में आयोजित फसल प्रदर्शन का भी निरीक्षण किया। गौठान में लो कॉस्ट तकनीक से भी कम लागत से वर्मी कंपोस्ट उत्पादन को देखकर हर्ष व्यक्त किया। आने वाले समय में समस्त गौठान में कम लागत तकनीक का प्रचार करने एवं उत्पादन गौठान में करने के पहल की सराहा भी की। डॉ. सोनकर ने जिला सहकारी केंद्रीय बैंक राजनांदगांव का भी निरीक्षण किया। उन्होंने गोधन न्याय योजना के गोबर खरीदी के राशि हस्तांतरण की भी जानकारी ली। इस दौरान जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती तनुजा सलाम, आयुक्त नगर निगम श्री चंद्रकांत कौशिक,  सहायक संचालक कृषि श्री टीकम सिंह ठाकुर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत श्री गोपाल कंवर, सहायक परियोजना अधिकारी जिला पंचायत श्री प्रदीप सहारे एवं जनपद पंचायत के अधिकारी उपस्थित थे।

 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें