मुख्‍य समाचार

1 रायपुर। बच्चों के विकास मे प्रमुख भूमिका निभा रहा सजग कार्यक्रम : ऑडियो क्लिप के माध्यम से सुनाए जा रहे प्रेरक संदेश,रायपुर। मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता ’लोकवाणी’ की 12 वीं कड़ी का प्रसारण 8 नवम्बर को : लोकवाणी ’बालक-बालिकाओं की पढ़ाई, खेलकूद, भविष्य’ विषय पर केन्द्रित होगी,राजनांदगांव। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया 4 नवम्बर को राजनांदगांव जिले के दौरे पर रहेंगे मिशन अमृत योजना के तहत 8.5 करोड़ के विकास कार्यों का करेंगे लोकार्पण ,राजनांदगांव : उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. सोनकर ने किया गोधन न्याय योजना के कार्यों का निरीक्षण : योजना की सफलता का मूल मंत्र गौठानों का सफल संचालन, राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित राज्योत्सव में मुख्यमंत्री ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 1 लाख 65 हजार किसानों के खाते में 178 करोड़ रूपए की राशि अंतरित की

सोमवार, 21 सितंबर 2020

सिम्स बिलासपुर के डीन और जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन हटाए गए : कोरोना आपदा काल में सिम्स में अव्यवस्था का मामला

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के आदेश पर हुई कार्रवाई

    रायपुर, । मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने बिलासपुर स्थित सिम्स के डीन तथा जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन को तत्काल उनके पद से हटाए जाने के निर्देश दिए हैं। यह कार्रवाई बिलासपुर स्थित सिम्स में कोरोना आपदा के दौरान प्रबंधन में लापरवाही और अव्यवस्था के कारण की गई है। मुख्यमंत्री ने आयुक्त बिलासपुर को सिम्स की अव्यवस्था के संबंध में प्राप्त रिपोर्ट पर तत्काल कार्रवाई सुनिश्चित करने तथा आगामी 15 दिनों में सभी कमियों को दूर कराने के निर्देश दिए हैं।

    गौरतलब है कि कोरोना संकट काल में सिम्स बिलासपुर की अव्यवस्था के संबंध में मिली शिकायत के मद्देनजर राज्य शासन ने पांच वरिष्ठ अधिकारियों की एक जांच समिति गठित कर मामले की जांच कराई थी। जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट में सिम्स में व्याप्त कई कमियों का उल्लेख किया है। रिपोर्ट में सिम्स बिलासपुर में प्रबंधन हेतु एक सक्षम अधिकारी के नेतृत्व में नियंत्रण दल गठित करने, सिम्स और जिले के डेडिकेटेड कोविड हास्पिटल और स्वास्थ्य विभाग के बीच समन्वय स्थापित करने हेतु वरिष्ठ अधिकारी को प्रभारी अधिकारी का दायित्व सौपने का सुझाव दिया गया है। जिले के स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा अलग आइसोलेशन पॉलिसी के अनुसार अवकाश लिया जाना, वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा कोविड-19 प्रबंधन संबंधी व्यवस्थाओं की नियमित समीक्षा न करना, ओपीडी के प्रबंधन तथा इंफेक्शन नियंत्रण प्रोटोकाल सहित कई मामलों में उदासीनता बरतने का उल्लेख समिति ने अपनी रिपोर्ट किया है।

 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें