मुख्‍य समाचार

1 रायपुर। बच्चों के विकास मे प्रमुख भूमिका निभा रहा सजग कार्यक्रम : ऑडियो क्लिप के माध्यम से सुनाए जा रहे प्रेरक संदेश,रायपुर। मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता ’लोकवाणी’ की 12 वीं कड़ी का प्रसारण 8 नवम्बर को : लोकवाणी ’बालक-बालिकाओं की पढ़ाई, खेलकूद, भविष्य’ विषय पर केन्द्रित होगी,राजनांदगांव। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया 4 नवम्बर को राजनांदगांव जिले के दौरे पर रहेंगे मिशन अमृत योजना के तहत 8.5 करोड़ के विकास कार्यों का करेंगे लोकार्पण ,राजनांदगांव : उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. सोनकर ने किया गोधन न्याय योजना के कार्यों का निरीक्षण : योजना की सफलता का मूल मंत्र गौठानों का सफल संचालन, राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित राज्योत्सव में मुख्यमंत्री ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 1 लाख 65 हजार किसानों के खाते में 178 करोड़ रूपए की राशि अंतरित की

शनिवार, 11 जुलाई 2020

कलेक्टर एवं एसपी ने किया ट्रूनाट लैब बॉयोसेफ्टी लेबल -2 का शुभारंभ

  • जिले में ही होगी अब कोरोना सेम्पल की जांच
           राजनांदगांव ! कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा और पुलिस अधीक्षक श्री जितेन्द्र शुक्ला ने आज मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय (पुराना जिला अस्पताल) में तैयार की गई ट्रूनाट लैब बॉयोसेफ्टी लेबल-2 का शुभारंभ किया। इस लैब द्वारा अब जिले में ही कोरोना सेम्पल का परीक्षण किया जाएगा। जिले में कोरोना की जांच के लिए सेम्पल दूसरे जिले के मेडिकल अस्पताल में भेजने की जरूरत नहीं होगी। यह लैब पूरी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है।
               मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने बताया कि ट्रूनाट लैब में प्रारंभ में एक दिन में 30 से 40 कोरोना सेम्पल की जांच किए जा सकेंगे। इसके बाद प्रतिदिन 80 लोगों का सेम्पल लेकर जांच किया जाएगा। उन्होंने बताया कि पुलिंग प्रोसेस में 250 से 300 लोगों के सेम्पल  की जांच एक ही दिन में किया जा सकेगा। ट्रूनाट लैब में स्वॉब नासोफैरिंजियल से सेम्पल लिया जाता है। इसके बाद लैब में सेनेटाईजेशन और रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया की जाती है। इसके बाद सेम्पल डोनिंग कक्ष से पास बॉक्स के द्वारा बायोसेफ्टी केबिनेट कक्ष में लाया जाता है। यह कक्ष बाहरी वातावरण के संपर्क में नहीं होता है। इसके बाद पीसीआर लैब में स्क्रीनिंग प्रोसेस किया जाता है। इस प्रक्रिया के बाद पीसीआर से कॉन्र्फमेट्री चिप द्वारा कोरोना संक्रमण की पुष्टि की जाती है। इस रिपोर्ट को आईडीएसपी पोर्टल और आईसीएमआर पोर्टल में अपलोड कर दी जाती है। इस अवसर पर एडिशनल एसपी श्रीमती सुरेशा चौबे, एसडीएम राजनांदगांव श्री मुकेश रावटे, डीटीओ डॉ. अल्पना लुनिया, आरएमएनसीएच कंसलटेंट डॉ. सोनिका त्रिपाठी, डॉ. स्नेहा, डीपीएम श्री गिरीश कुर्रे, जिला माईक्रो बॉयोलॉजिस्ट वंदना कोसरिया उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें