मुख्‍य समाचार

1 रायपुर। बच्चों के विकास मे प्रमुख भूमिका निभा रहा सजग कार्यक्रम : ऑडियो क्लिप के माध्यम से सुनाए जा रहे प्रेरक संदेश,रायपुर। मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता ’लोकवाणी’ की 12 वीं कड़ी का प्रसारण 8 नवम्बर को : लोकवाणी ’बालक-बालिकाओं की पढ़ाई, खेलकूद, भविष्य’ विषय पर केन्द्रित होगी,राजनांदगांव। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया 4 नवम्बर को राजनांदगांव जिले के दौरे पर रहेंगे मिशन अमृत योजना के तहत 8.5 करोड़ के विकास कार्यों का करेंगे लोकार्पण ,राजनांदगांव : उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. सोनकर ने किया गोधन न्याय योजना के कार्यों का निरीक्षण : योजना की सफलता का मूल मंत्र गौठानों का सफल संचालन, राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित राज्योत्सव में मुख्यमंत्री ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 1 लाख 65 हजार किसानों के खाते में 178 करोड़ रूपए की राशि अंतरित की

शनिवार, 9 मई 2020

तेंदूपत्ता व्यापारियों को क्वारंटाईन सेंटर में रहना होगा

      राजनांदगांव।नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण के बचाव के लिए छत्तीसगढ़ राज्य में तेंदूपत्ता संग्रहण, भंडारण, परिवहन आदि कार्य के लिए दूसरे राज्य के क्रेताओं एवं उनके प्रतिनिधियों को छत्तीसगढ़ में प्रवेश करने पर क्वारंटाईन सेंटर में रखा जाएगा। जिसके लिए वन मंडल क्षेत्र राजनांदगांव एवं खैरागढ़ में क्वारंटाईन सेंटर बनाए गए हैं।
      कलेक्टर श्री जय प्रकाश मौर्य ने बताया है कि वनमंडल क्षेत्र राजनांदगांव के लिए होटल अमोरा पैलेस रेवाडीह राजनांदगांव, होटल कंवर पैलेस स्टेशन रोड राजनांदगांव एवं कन्या शिक्षा परिसर अम्बागढ़ चौकी तथा वनमंडल क्षेत्र खैरागढ़ के लिए पोस्ट मैट्रिक बालक छात्रावास ग्राम अकरजन एवं सेन्ट्रल पाईन्ट लॉज डोंगरगढ़ को क्वारंटाईन सेंटर बनाया गया है। संस्थानों को तत्काल प्रभाव से क्वारंटाईन सेंटर के लिए अधिग्रहण कर दिया गया है। होटल का व्यय क्वारंटाईन सेंटर में ठहरने वालों द्वारा वहन किया जाएगा।
       क्वारेंटाईन किए गए व्यक्तियों को 28 दिनों तक क्वारेंटाईन सेंटर में रहना होगा। छत्तीसगढ़ राज्य में प्रवेश करने के पश्चात् वे केवल क्वारेंटाईन सेंटर में ही रहेंगे। उन्हें कार्यक्षेत्र एवं क्वारेंटाईन सेंटर में मास्क व सेनिटाईजर का नियमित उपयोग करना होगा तथा सोशियल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। नियमित हेल्थ चेक-अप  कराना जरूरी है।  प्रतिदिन हेल्थ के संबंध में संबंधित क्षेत्र के खंड चिकित्सा अधिकारी को अनिवार्यत: रिपोर्ट करना होगा। राज्य के भीतर से दूसरे जिले से आने वाले प्रतिनिधियों को एक स्थान पर रखे जाने व उनके नियमित जांच की व्यवस्था वनमंडलाधिकारी द्वारा की जायेगी। शासन तथा प्रशासन द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिए जारी समस्त निर्देशों का पालन करना होगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें