मुख्‍य समाचार

1 रायपुर। बच्चों के विकास मे प्रमुख भूमिका निभा रहा सजग कार्यक्रम : ऑडियो क्लिप के माध्यम से सुनाए जा रहे प्रेरक संदेश,रायपुर। मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता ’लोकवाणी’ की 12 वीं कड़ी का प्रसारण 8 नवम्बर को : लोकवाणी ’बालक-बालिकाओं की पढ़ाई, खेलकूद, भविष्य’ विषय पर केन्द्रित होगी,राजनांदगांव। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया 4 नवम्बर को राजनांदगांव जिले के दौरे पर रहेंगे मिशन अमृत योजना के तहत 8.5 करोड़ के विकास कार्यों का करेंगे लोकार्पण ,राजनांदगांव : उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. सोनकर ने किया गोधन न्याय योजना के कार्यों का निरीक्षण : योजना की सफलता का मूल मंत्र गौठानों का सफल संचालन, राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित राज्योत्सव में मुख्यमंत्री ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 1 लाख 65 हजार किसानों के खाते में 178 करोड़ रूपए की राशि अंतरित की

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2020

मुख्यमंत्री ने किया ई-पास एनराइड एप का शुभारंभ

अतिआवश्यक सेवा प्रदाताओं को आवागमन में होगी सुविधासी.जी. कोविड-19 ई-पास एप,

 जिला प्रशासन ने बनाया

  रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज राजधानी रायपुर के माना केम्प स्थित शासकीय वृद्धाश्रम में जिला प्रशासन द्वारा रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड और नगर निगम के सहयोग से बनाए गए सी.जी. कोविड-19 “ई-पास“ एनराइड ऐप का शुभारंभ किया। इसके जरिए 22 प्रकार की आवश्यक सेवा के परिवहन में लगे सेवा प्रदाताओं को ऑनलाइन आवागमन की स्वीकृति आसानी से मिल सकेगी।

       इस ऑनलाइन सिस्टम से रायपुर शहर के भीतर सहित छत्तीसगढ़ के अन्य शहरों और जिलों में आने-जाने के लिए आवश्यक प्रशासनिक स्वीकृति घर बैठे प्राप्त होगी।कोविड-19 ई-पास की अनुमति की पूरी प्रक्रिया अत्यधिक सरल हैै। इसके लिए https://rebrand-ly/z9k75qp  लिंक पर जाकर कोविड-19 ई-पास एप्प डाउनलोड करके इसे इंस्टॉल करना होगा। इंस्टॉल करने के बाद अपना मोबाईल नं. व ओटीपी दर्ज कर अपना आवेदन पत्र पूर्ण करना होगा। आवेदन के साथ आधार कार्ड व वाहन का नंबर भी दर्ज करना जरुरी होगा। इस ई-फार्म में आवेदक को फोटो व पहचान पत्र व सेवा प्रदाता प्रमाण भी अपलोड करना अनिवार्य होगा। भरे हुए फार्म को पुलिस विभाग गुण-दोष के आधार पर स्वीकृत या अस्वीकृत करेगा। सड़क पर मौजूद पुलिस कर्मचारी इस एप्प के माध्यम से स्वीकृत आवेदनों का सत्यापन भी अपने मोबाईल के जरिए तुरंत जांच सकेंगे।यह ई-पास सब्जी, दूध, फल, दवा, अनाज की दुकानों, पेट्रोल पंप व बैंक कर्मियों के लिए अति उपयोगी हैं, जिन्हें आवश्यक सेवा प्रदाता के रुप में आवागमन की स्वीकृति आवश्यक होती हैं। एक शहर के भीतर अथवा एक से दूसरे में जाने के लिए यह पास  वैधानिक अनुमति के रुप में होगी एवं यात्रा करने वाले स्वीकृति प्राप्त होने के बाद कोई असुविधा नहीं होगी। 

 इस अवसर पर पूर्व जिला पंचायत सदस्य पंकज शर्मा, समाज कल्याण विभाग के सचिव आर प्रसन्ना, संचालक पी दयानंद, कलेक्टर एस. भारती दासन, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख मोहम्मद सहित अनेक विभागीय अधिकारी भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने इस ऐप के आडियो विडियो प्रजेन्टेशन का अवलोकन किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें