रायपुर, 14  अप्रैल 2020 । नगरीय प्रशासन और श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया के निर्देश पर महाराष्ट्र के शोलापुर और जम्मू में फंसे श्रमिकों के लिए श्रम विभाग के अधिकारियों द्वारा संबंधित राज्यों के प्रशासनिक अधिकारियों से समन्वय स्थापित कर श्रमिकों के लिए रहने व भोजन, राशन, सब्जी-भाजी आदि की व्यवस्था सुनिश्चित कराई गई है। सभी श्रमिक सुरक्षित हैं।
        श्रम विभाग के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि संबंधित मजदूर जांजगीर-चांपा जिले के निवासी हैं, वे अपनी रोजी-रोटी के लिए महाराष्ट्र के सोलापुर गए थे और वहां इंडियन ऑयल कारपोरेशन लिमिटेड, डिपो में काम कर रहे थे। लॉकडाउन से उत्पन्न परिस्थितियों के कारण छत्तीसगढ़ के श्रमिक महाराष्ट्र के सोलापुर और जम्मू राज्य में फंसे हुए हैं।
       अधिकारियों ने बताया कि श्रमिकों को सलाह दी गई है कि वे जहां रुके हुए है, वहीं रूके। श्रमिकों के लिए भोजन, राशन आदि की व्यवस्था जहां वो रूके है वहीं पर कराई जा रही है। साथ ही इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लिमिटेड डिपो में कार्यरत श्रमिकों के माह मार्च का वेतन भी दिला दिया गया है।
       लॉकडाउन समाप्त होने अथवा शासन द्वारा जारी एडवाइजरी के अनुसार राज्य शासन द्वारा श्रमिकों को हरसंभव मदद का भरोसा दिया गया है। वहीं जम्मू में फंसे श्रमिकों के लिए भी स्थानीय तहसीलदार, रामगढ़, साम्बा के संबंधित अधिकारी सहित श्रम विभाग के नियंत्रण कक्ष से समन्वय स्थापित कर तात्कालिक व्यवस्था, राशन, भोजन आदि की व्यवस्था कराई गई है, वर्तमान में किसी भी श्रमिक को राशन, भोजन और रहने की परेशानी नहीं है।
उल्लेखनीय है कि श्रमिक श्रीकांत बघेल, श्री सुरेंद्र आजाद, श्री राजकुमार, श्री नरेश कुर्रे, श्री सेवक राम, और श्री खेम कुमार द्वारा श्रम मंत्री के नाम सहायता के लिए पत्र लिखकर व्हाट्सएप के जरिए श्रम विभाग के अधिकारियों से संपर्क किया गया था। श्रम विभाग के अधिकारियों द्वारा संबंधितों से समन्वय स्थापित कर रहने, भोजन, राशन और सब्जी-भाजी आदि की व्यवस्था सुनिश्चित करा दी गई है।