मुख्‍य समाचार

1 रायपुर। बच्चों के विकास मे प्रमुख भूमिका निभा रहा सजग कार्यक्रम : ऑडियो क्लिप के माध्यम से सुनाए जा रहे प्रेरक संदेश,रायपुर। मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता ’लोकवाणी’ की 12 वीं कड़ी का प्रसारण 8 नवम्बर को : लोकवाणी ’बालक-बालिकाओं की पढ़ाई, खेलकूद, भविष्य’ विषय पर केन्द्रित होगी,राजनांदगांव। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया 4 नवम्बर को राजनांदगांव जिले के दौरे पर रहेंगे मिशन अमृत योजना के तहत 8.5 करोड़ के विकास कार्यों का करेंगे लोकार्पण ,राजनांदगांव : उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. सोनकर ने किया गोधन न्याय योजना के कार्यों का निरीक्षण : योजना की सफलता का मूल मंत्र गौठानों का सफल संचालन, राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित राज्योत्सव में मुख्यमंत्री ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 1 लाख 65 हजार किसानों के खाते में 178 करोड़ रूपए की राशि अंतरित की

बुधवार, 22 अप्रैल 2020

महिलाओं के हाथों में है हसियां, फावड़ा और कुदाली , मुठ्ठी में है उन्नति की तकदीर

  • ग्राम पीपरखार में शासन की बाड़ी योजना बनी मददगार
    सामूहिक सुघ्घर बाड़ी बना आजीविका का साधन
    महिलाएं कर रही हैं कोरोना वायरस से बचाव के जतन

          राजनांदगांव 22 अप्रैल 2020 ।  पर्री में कभी भिण्डी, लौकी, कद्दू, बरबटी, टमाटर एवं अन्य सब्जियां एकत्रित करती महिलाएं गांव में तरक्की और खुशहाली ला रही हैं वहीं ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती मिली है। राजनांदगांव जिले के अंबागढ़ चौकी विकासखंड स्थित ग्राम पीपरखार की महिलाओं ने शासन की बाड़ी योजना के तहत एकता और संगठन से सामूहिक सुघ्घर बाड़ी में सब्जी उत्पादन के नवाचार को अपनाकर जय मां सरस्वती एवं मां शीतला समूह की 10 महिलाओं ने एक बानगी पेश की है। सामूहिक प्रयास जब दिल से किया जाए तो उसके सुखद और सार्थक परिणाम सामने आते हैं। इन महिलाओं के हाथ में है हसियां, फावड़ा और कुदाली, वहीं इनके मुठियों में है उन्नति की तकदीर।
          प्रख्यात शायर निदा फाजली की यह पंक्तियां इनके लिए प्रासंगिक लगती है -
अच्छी संगत बैठ कर, संगी बदले रूप।
जैसे मिलकर आम से, मीठी हो गई धूप।

         कोरोना वायरस के बचाव के लिए महिलाएं सावधानी एवं जतन कर रही हैं। बुजुर्ग श्रीमती कैलाशवती ने कहा कि घर के कार्यों को पूरा करने के बाद हम सभी महिलाएं मिलजुलकर यहां परिश्रम कर कार्य करती है। पौधों को समय पर वर्मी कम्पोस्ट देने के साथ बंदरों से भी देखरेख करनी पड़ती है। गौठान से ही सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध हो जाता है। हरे-भरे लहलहाते इस बाड़ी में गंवारफली, खट्टाभाजी एवं करमता भाजी भी लगा रहे हैं।
           गृहिणी श्रीमती उमादेवी सहारे ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी योजना से तरक्की हो रही है और जीवन स्तर में सुधार आया है। उनकी यह योजना एक अभियान के समान है जो जन जागृति ला रही है। जिसके माध्यम से महिलाओं में भी संकोच की भावना दूर हुई है और वे कार्य करने के लिए आगे आ रही हैं। गृहिणी श्रीमती जानकी देवी मण्डावी ने कहा कि बाड़ी योजना से हम सभी को बहुत फायदा हो रहा है। अपने घर के लिए तो सब्जी की आपूर्ति होने के बाद गांव में भी सब्जी विक्रय कर रहे हैं, जिससे आजीविका चल रही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें