मुख्‍य समाचार

1 रायपुर। बच्चों के विकास मे प्रमुख भूमिका निभा रहा सजग कार्यक्रम : ऑडियो क्लिप के माध्यम से सुनाए जा रहे प्रेरक संदेश,रायपुर। मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता ’लोकवाणी’ की 12 वीं कड़ी का प्रसारण 8 नवम्बर को : लोकवाणी ’बालक-बालिकाओं की पढ़ाई, खेलकूद, भविष्य’ विषय पर केन्द्रित होगी,राजनांदगांव। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया 4 नवम्बर को राजनांदगांव जिले के दौरे पर रहेंगे मिशन अमृत योजना के तहत 8.5 करोड़ के विकास कार्यों का करेंगे लोकार्पण ,राजनांदगांव : उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. सोनकर ने किया गोधन न्याय योजना के कार्यों का निरीक्षण : योजना की सफलता का मूल मंत्र गौठानों का सफल संचालन, राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित राज्योत्सव में मुख्यमंत्री ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 1 लाख 65 हजार किसानों के खाते में 178 करोड़ रूपए की राशि अंतरित की

मंगलवार, 28 अप्रैल 2020

कोटा राजस्थान से सकुशल छत्तीसगढ़ लौटे छात्र-छात्राएं: छात्र हुए खुश और अभिभावकों को मिली राहत

  • कोटा हाॅट स्पाॅट होने के कारण छात्रों का क्वारेंटाईन जरूरी
  • क्वारेंटाईन सेंटरों में रहने, खाने-पीने सहित सभी आवश्यक सुविधाओं की व्यवस्था

   रायपुर, 28 अप्रैल 2020 ! मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की पहल और निर्देशन पर राजस्थान के कोटा शहर में कोचिंग कर छत्तीसगढ़ के छात्र-छात्राओं की आज सुबह सकुशल अपने राज्य छत्तीसगढ़ वापसी संभव हो सकी है। छात्र-छात्राओं की सकुशल वापसी में प्रशासन, पुलिस, परिवहन, चिकित्सा अधिकारियों के साथ ही वाहन चालक और उनके परिचालकों की अहम भूमिका रही है। सकुशल अपने राज्य वापसी पर छात्र-छात्राएं जहां खुश है वहीं उनके अभिभावकों ने भी राहत की सांस ली है।  

  ज्ञातव्य है कि राजस्थान का कोटा शहर कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण की दृष्टि से एक हाॅट स्पाॅट सेन्टर चिन्हित है। यहां कई पाॅजिटिव केस पाए गए है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए भारत सरकार द्वारा जारी गाईडलाईन के तहत और प्रदेशवासियों की सुरक्षा के मद्देनजर कोटा से लौटने वाले सभी छात्र-छात्राओं को क्वारेंटाईन में रखना बहुत जरूरी था। इसे देखते हुए राज्य सरकार द्वारा सभी छात्र-छात्राओं को क्वारेंटाईन में रखा गया है। राज्य सरकार द्वारा पहले ही मीडिया और अन्य माध्यमों से छात्र-छात्राओं के अभिभावकों को इसके बारे में अवगत कराया गया था। कोटा से वापसी छात्र-छात्राओं के लिए स्वैच्छिक था। क्वारेंटाईन सेंटरों में छात्र-छात्राओं के लिए अलग-अलग सभी आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करायी गई है। इन सेंटरों में छात्र-छात्रों के रहने, खाने-पीने के साथ ही अन्य आवश्यक व्यवस्थाओं के साथ ही सुरक्षा के पर्याप्त प्रबंध किए गए है।  

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें