रायपुर 16 अप्रैल 2020 । लॉकडाउन से प्रभावित जरूरतमंद प्रवासी श्रमिकों को भोजन ठहरने और चिकित्सा सुविधा सहित अन्य आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित कर उन्हें राहत राज्य शासन के निर्देशानुसार जिला प्रशासन बीजापुर द्वारा अनेक सुविधाएं पहुंचायी जा रही हैं। जिला प्रशासन बीजापुर द्वारा 07 शिविरों के माध्यम से लगभग 766 लोगों को राहत दी जा रही है। बीजापुर जिले के चारों विकासखण्ड में संचालित प्राथमिक शाला भवन कुलसूम पारा गंगालूर, सांस्कृतिक भवन नगरपालिका बीजापुर, पोटाकेबिन पिनकोण्डा भैरमगढ़, पोटाकेबिन तारलागुडा, बालक आश्रम भोपालपटनम, आश्रम मददेड, पोेटाकेबिन उसूर के भवनों का आश्रय स्थल के रूप उपयोग किया जा रहा है। इन स्थानों पर रुकने, खाने-पीने की व्यवस्था और आवश्यक स्वास्थ्य परीक्षण भी किया जा रहा है। इसके अलावा लॉकडाउन के दौरान शासन के निर्देशानुसार जिला प्रशासन ने ग्राम पंचायत के माध्यम से जरूरतमंदों और बिना राशन कार्ड धारियों को राशन की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है।
    विकासखण्ड बीजापुर में संचालित सांस्कृतिक भवन के राहत शिविर में रुके श्री बच्चा पटेल पिता नकुन पटेल  ने बताया कि उड़ीसा के बलांगीर जिले के निवासी है। वे हाऊसिंग बोर्ड में काम करने आये थे। लॉकडाउन के चलते बालक आश्रम भोपालपटनम में फँस गए लेकिन शासन-प्रशासन ने हम लोगों को रुकने, खाने पीने की व्यवस्था की है। श्री पटेल ने इसके लिए राज्य सरकार का आभार व्यक्त भी किया। इसी प्रकार श्री चेनम मनोज पिता लिंगा  जिला गढ़चिरोली निवासी ने बताया कि वे मजदूरी के लिए भोपालपटनम आए थे। लॉकडाउन में फंस गए विकासखण्ड भोपालपटनम के बालक आश्रम भोपालपटनम में उनको और उनके साथ आये लोगों के रूकने की व्यवस्था शिविर में की गयी है, जहां पर शासन द्वारा रहने और खाने-पीने की सुविधा  अच्छे से दी जा रही है। उन्होंने बताया कि शिविर में हम लोगों को खाने-पीने के साथ स्वास्थ्य परीक्षण भी किया गया है। जिसके लिए  मुख्यमंत्री और राज्य शासन की सराहना  भी की।