मुख्‍य समाचार

1 रायपुर। बच्चों के विकास मे प्रमुख भूमिका निभा रहा सजग कार्यक्रम : ऑडियो क्लिप के माध्यम से सुनाए जा रहे प्रेरक संदेश,रायपुर। मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता ’लोकवाणी’ की 12 वीं कड़ी का प्रसारण 8 नवम्बर को : लोकवाणी ’बालक-बालिकाओं की पढ़ाई, खेलकूद, भविष्य’ विषय पर केन्द्रित होगी,राजनांदगांव। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया 4 नवम्बर को राजनांदगांव जिले के दौरे पर रहेंगे मिशन अमृत योजना के तहत 8.5 करोड़ के विकास कार्यों का करेंगे लोकार्पण ,राजनांदगांव : उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. सोनकर ने किया गोधन न्याय योजना के कार्यों का निरीक्षण : योजना की सफलता का मूल मंत्र गौठानों का सफल संचालन, राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित राज्योत्सव में मुख्यमंत्री ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 1 लाख 65 हजार किसानों के खाते में 178 करोड़ रूपए की राशि अंतरित की

गुरुवार, 23 अप्रैल 2020

लॉक डाउन में नगद संगवारी बन गए मददगार : अब तक लगभग 4 हजार हितग्राहियों के घर जाकर 12 लाख रूपये नगद वितरित

          रायपुर, 23 अप्रैल 2020 । देशव्यापी लॉक डाउन से उपजे विषम हालात में जिले के नगद संगवारी लोगों के लिए सबसे बडे़ मददगार साबित हो रहा है। संकट की इस घड़ी में ग्रामीण इलाको में  रहने वाले लोगों खासकर वृद्धजन, दिव्यांगों और जरुरतमंदो लोगों को बैंक तक पहुचने एंव खातों से पैसे निकालने में दिक्कतो का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी हालात में जिले में सक्रिय रूप से कार्यरत 215 नगद संगवारी जरूरतमंद लोगों के लिए किसी देवदूत से कम नहीं हैं। वे विभिन्न ग्रामों घर जाकर आधार नम्बर पर आधारित भुगतान प्रणाली के माध्यम से उनकी पेंशन राशि नकद रूप में दे रहे हैं। अब तक लगभग 4 हजार  से अधिक  हितग्राहियो के घर घर जाकर लगभग 12 लाख रूपये की नगद पेंशन राशि का भुगतान कर चुके हैं। पेंशन के अलावा जनधन खाताधारकों, मनरेगा मजदूरी आदि का भुगतान भी कर रहे हैं।
           भुगतान की इस प्रणाली के अंतर्गत जहां एक ओर लॉकडाउन का पालन सुनिश्चित हो रहा है, वहीं दूसरी ओर बैंको में लगने वाली लंबी लंबी  कतारो में भी कमी हो रही है। ये नगद संगवारी स्वंय भी लॉकडाउन के निर्देशांे- फिजिकल डिस्टेंसं का पालन कर रहे हैं, वही ग्रामीणो को भी राशि भुगतान के साथ फिजिकल डिस्टेंस, स्वच्छता का महत्व एंव कोरोना से सावधानी व सुरक्षा के उपाय बता रहे है। सामाजिक सहायता अतंर्गत संचालित पेंशन योजनाओं के साथ साथ अन्य विभागो द्वारा भी हितग्राहियो के खाते में सहायता राशि जमा हुई है। परन्तु लॉकडाउन के कारण बैंकों तक जाना और धनराशि निकालना  सचमुच कठिन  था। ऐसे में जिला प्रशासन की ओर से नगद संगवारियों द्वारा धनराशि का घर-घर जाकर वितरण सुनिश्चित किया जाना प्रशासनिक संवेदनशीलता का  उदाहरण है। एक ओर जहां देश के अनके स्थानों के बैंकों में अपनी धनराशि निकालने के लिए ग्रामीणों की भीड़ लॉकडाउन के नियमों के विपरीत बैंकों के बाहर लंबी-लंबी कतारों में अपनी बारी का इंतज़ार कर रही है वहीं बलौदाबाज़ार जिले में संचालित यह योजना किसी वरदान से कम नहीं है।
           नगद संगवारियों द्वारा के अन्य लोगों जैसे शिक्षकों का वेतन ,मनरेगा मजदूरी,किसान सम्मान निधि, जनधन खातांे के राशि आदि भी हितग्राहियो को उनके घर पर ही नगद प्राप्त करने की सुविधा दी जा रही है। नगद संगवारी घर-घर जाकर नगद भुगतान कर ग्रामीणों एंव जरुरतमंदो के लिए लाइफ़लाइन की तरह काम कर रहे हैं। नगद संगवारी लोगो को इस कोरोना से उपजे संकटकाल में घर पहुंच राशि भुगतान कर महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे है।जिले के कलेक्टर श्री कार्तिकेय गोयल ने जिले के सभी गांवों में नगद निकासी की सुविधा सुनिश्चित करने के लिए नकद संगवारियों का उत्साहवर्धन किया एंव   उन्हे मास्क पहनने, उपकरणो को प्रत्येक बार सेंनेटाइस कर एंव  सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए लोगों को लाभान्वित करने के लिए प्रेरित किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें