मुख्‍य समाचार

1 रायपुर। बच्चों के विकास मे प्रमुख भूमिका निभा रहा सजग कार्यक्रम : ऑडियो क्लिप के माध्यम से सुनाए जा रहे प्रेरक संदेश,रायपुर। मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता ’लोकवाणी’ की 12 वीं कड़ी का प्रसारण 8 नवम्बर को : लोकवाणी ’बालक-बालिकाओं की पढ़ाई, खेलकूद, भविष्य’ विषय पर केन्द्रित होगी,राजनांदगांव। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया 4 नवम्बर को राजनांदगांव जिले के दौरे पर रहेंगे मिशन अमृत योजना के तहत 8.5 करोड़ के विकास कार्यों का करेंगे लोकार्पण ,राजनांदगांव : उपायुक्त कृषि विभाग डॉ. सोनकर ने किया गोधन न्याय योजना के कार्यों का निरीक्षण : योजना की सफलता का मूल मंत्र गौठानों का सफल संचालन, राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित राज्योत्सव में मुख्यमंत्री ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 1 लाख 65 हजार किसानों के खाते में 178 करोड़ रूपए की राशि अंतरित की

शुक्रवार, 15 नवंबर 2019

करीब 10 हजार परिवारों को मिलेगा शहरी आबादी पट्टा

रायपुर : कलेक्टर ने ली राजस्व अधिकारियों की बैठक 

नजूल पट्टाधारियों के भूमि को फ्री होल्ड कराने का अभियान संचालित

रायपुर,। कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने आज शाम कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में राजस्व अधिकारियों की बैठक लेकर रायपुर सहित नगरीय निकायों के शहरी आबादी पट्टा वितरण का कार्य एक सप्ताह में कराने के निर्देश दिए। उल्लेखनीय है कि रायपुर जिले में करीब 10 हजार परिवारों को शहरी आबादी पट्टा मिलेगा।
कलेक्टर ने इसी तरह वर्ष 1984 के नजूल पट्टाधारियों के पट्टे का नवीनीकरण भी तत्काल कराने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि राज्य शासन द्वारा नजूल पट्टाधारियों के भूमि को फ्री होल्ड करने की योजना भी प्रारंभ की गई है और इसके लिए अभियान चलाया जा रहा है। ऐसे पट्टाधारी अपनी जमीन को फ्री होल्ड कराकर जमीन का मालिकाना हक ले सकते है। इससे वे इस जमीन के बदले बैंक से लोन ले सकेगें, जमीन का हस्तांतरण तथा खरीदी-बिक्री भी कर सकेगंे, साथ ही 30 सालों में होने वाले नवीनीकरण की प्रक्रिया से भी उन्हें छुटकारा मिलेगा। इसके लिए सरकारी गाईड लाइन दर की 2 प्रतिशत प्रीमियम राशि अदा करनी होगी।
कलेक्टर ने यह भी बताया कि 7500 वर्गफीट से कम आकार वाली अतिक्रमण वाली शासकीय भूमि का नियमितिकरण भी किया जा रहा है। उन्होंने ऐसे अतिक्रमणकारियों को इस भूमि के नियमितीकरण के लिए नोटिस देने के निर्देश दिए, जिससे वे राज्य शासन की इस योजना का लाभ उठा सकें और अपने भूमि का मालिकाना हक प्राप्त कर सकें। इसके लिए उन्हें सरकारी गाईड लाईन का 150 प्रतिशत राशि देनी होगी।
कलेक्टर ने इसी तरह डायवर्सन कार्य और राजस्व प्रकरणों के निराकरण में तत्परता लाने के निर्देश दिए तथा कहा कि रायपुर जिले के राजस्व अधिकारियों ने राजस्व प्रकरणों के निराकरण में अच्छा कार्य किया है। उन्होंने कहा कि 15 सालों की डायवर्सन रेंट एक मुश्त अदा करने पर 30 सालों तक डायवर्सन रेंट की राशि नहीं अदा करनी होगी।  
कलेक्टर ने बताया कि रायपुर जिले में धान खरीदी के लिए गिरदावरी का कार्य पूर्ण हो चुका है। उन्होंने सभी राजस्व अधिकारियों को गिरदावरी के रिकॉर्ड का 10 प्रतिशत रेंडमली जांच करने के निर्देश दिए। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें